श्रीकृष्ण स्वधर्म (2.31-2.37) और परधर्म (3.35) के बारे में बताते हैं और अंत में सभी धर्मों (18.66) को त्यागकर परमात्मा के साथ एक होने की सलाह देते हैं।

अर्जुन का विषाद उसके अहंकारी भय से उत्पन्न हुआ कि यदि उसने युद्ध लड़ा और अपने भाइयों को मार डाला तो उसकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचेगी। श्रीकृष्ण उसे (2.34-2.36) कहते हैं कि युद्ध से संकोच करके भी वह अपनी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाएगा, क्योंकि युद्ध उसका स्वधर्म है। सब लोगों को लगेगा कि अर्जुन युद्ध में शामिल होने से डर गए और युद्ध से डरना क्षत्रिय के लिए मृत्यु से भी बुरा है।

श्रीकृष्ण आगे बताते हैं (3.35) कि स्वधर्म, भले ही दोषपूर्ण या गुणों से रहित हो, परन्तु परधर्म से बेहतर है और स्वधर्म के मार्ग में मृत्यु बेहतर है, क्योंकि परधर्म भय देने वाला है।

इन्द्रियों से परधर्म आसान और बेहतर लगता है, जबकि आन्तरिक स्वधर्म के लिए अनुशासन और कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है और इसे धीरे-धीरे हमारे अंदर उजागर करना पड़ता है। हमारे प्रतिष्ठित परिवार जहां हम पैदा हुए हैं, स्कूल में ग्रेड, नौकरी या पेशे में अच्छी कमाई और हमारे रास्ते में आने वाली शक्ति / प्रसिद्धि से हम अपने आपको दूसरों से बेहतर समझते हैं परन्तु श्रीकृष्ण के लिए, हर कोई अद्वितीय है और अपने स्वधर्म के अनुसार अद्वितीय रूप से बढ़ेंगे। उनका कहना है कि जबकि सभी में मूल रूप तत्व एक ही है, प्रत्येक प्रकट इकाई अद्वितीय है।

अंत में, श्रीकृष्ण हमें सलाह देते हैं (18.66) कि हम सभी धर्मों को त्याग दें और उनकी शरण लें क्योंकि वे हमें सभी पापों से मुक्त कर देंगे। यह भक्ति योग में समर्पण के समान है और आध्यात्मिकता की नींव में से एक है।

जिस प्रकार एक नदी समुद्र का हिस्सा बनने पर अपने स्वधर्म को खो देती है, उसी तरह हमें भी परमात्मा के साथ एक होने के लिए अहंकार और स्वधर्म को खोना पड़ेगा।


English - Read

Source - Punjabi Kesari

 

< Previous Chapter | Next Chapter >