गीता में कई अचूक उपाय हैं जो कई दरवाजे खोलने और आत्म-साक्षात्कार के मार्ग में आने वाली बाधाओं को दूर करने की क्षमता रखते हैं। ऐसी ही एक अचूक उपाय है, स्वयं को दूसरों में और दूसरों को स्वयं में देखना।

श्रीकृष्ण हमें यह महसूस करने के लिए कहते हैं कि वह हम सभी में है और वह अव्यक्त (निराकार) की ओर इशारा कर रहे हैं।

इंद्रियों द्वारा प्रेषित जानकारी के आधार पर, हमारे दिमाग को स्थितियों को सुरक्षित/सुखद या असुरक्षित/अप्रिय में विभाजित करने और न्याय करने के लिए ’सूचीबद्ध’ किया जाता है।

यह हमें आने वाले खतरों से बचाने के लिए आवश्यक और उपयोगी है।

किसी भी तकनीक की तरह, दिमाग भी दोधारी होता है और हम पर हावी होने के लिए अपने जनादेश को पार कर जाता है। यह अनिवार्य रूप से अहंकार का जन्म स्थान है। यह अचूक उपाय हमें सिखाता है कि क्या कहती है कि विभाजन कम करने के लिए दिमाग को गुलाम बनाएं।

हमारे शरीर सहित कोई भी जटिल भौतिक इकाई इस सामंजस्य के बिना जीवित नहीं रह सकती है।

जब हम इस अचूक उपाय का उपयोग करते हैं, तो हम दूसरों के लिए करुणा विकसित करते हैं और अपने बारे में जागरूकता बढ़ाते हैं। इसे महसूस करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि किसी ऐसे व्यक्ति के साथ शुरुआत करें जिसे हम किसी भी कारण से शत्रु मानते हैं।

गीता द्वारा दिए गए मार्ग में आंतरिक आत्म तक पहुंचने के लिऐ अपने प्रति ’जागरूकता’ और दूसरों के लिए ’करुणा’ दो अहम पहलू है।


English - Read

Source - Punjabi Kesari

 

< Previous Chapter | Next Chapter >