गीता अलग-अलग लोगों को उनके दृष्टिकोण के आधार पर अलग दिखाई देती है। गीता में तीन अलग-अलग मार्ग बताए गए हैं। कर्मयोग, सांख्ययोग और भक्तियोग। मन उन्मुख व्यक्ति के लिए कर्मयोग आदर्श है। सांख्ययोग ज्ञान के लिए है और भक्ति हृदय के लिए है।

आज की दुनिया में, अधिकतर मन उन्मुख की श्रेणी में आते हैं। यह इस विश्वास पर आधारित है कि हम जंजीरों से बंधे हुए हैं और खुद को मुक्त करने के लिए इन जंजीरों को तोडऩे के लिए कड़ी मेहनत करने की जरूरत है। इसलिए यह कर्म उन्मुख है। उनके साथ कोई भी बातचीत ‘अब मुझे क्या करना चाहिए’ के साथ खत्म होगी। यह मार्ग हमें निष्काम कर्म यानि बिना प्रेरणा के कर्म की ओर ले जाता है।

सांख्ययोग को ज्ञान योग के रूप में जाना जाता है और यह जागरूकता या जानने के बारे में है, लेकिन ज्ञान नहीं है। इसका प्रारंभिक बिंदु यह विश्वास है कि हम एक अंधेरे कमरे में हैं और अंधेरे को कम करने के लिए एक दीपक जलाना है क्योंकि कोई भी कार्रवाई या कर्म उस अंधेरे को दूर नहीं कर सकता है। यह मार्ग हमें चुनाव रहित जागरूकता का अहसास कराता है।

भक्ति योग समर्पण के बारे में है। वे खुद को एक लहर के रूप में देखते हैं, जिसका अस्तित्व महासागर और महासागर के परमात्मा होने के कारण है, जो सर्वोच्च है।

शुरूआत में इन तीनों रास्तों की भाषा और समझ काफी अलग होगी। यदि किसी मन उन्मुख व्यक्ति को जागरूकता का मार्ग समझाया जाए तो वह जागरूकता के लिए कोई न कोई क्रिया ढूंढता ही रहता है।

निश्चित रूप से, ये सुस्पष्ट रास्ते नहीं हैं और इनका संयोजन एक अनुभव है। उदाहरण के लिए, जब कर्म और सांख्य मार्ग मिलते हैं तो हमें पता चलता है कि सभी कर्मों की अंतिम नियति एक मृगतृष्णा है और इसे करते समय कर्म से अनासक्त हो जाएंगे, एक नाटक में एक अधिनियम की तरह।

जैसे पूरा ब्रह्मांड तीन कणों इलैक्ट्रॉन, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन का संयोजन है, आध्यात्मिक दुनिया इन तीन रास्तों का संयोजन है।

श्रीकृष्ण कहते हैं, इन सभी रास्तों में आत्म-साक्षात्कार का एक ही लक्ष्य है, जो अहंकार से मुक्त है।


English - Read

Source - Punjabi Kesari

 

< Previous Chapter | Next Chapter >