src="img/art4.png"/>

गीता हमारी इंद्रियों पर जोर देती है, क्योंकि वे हमारे आंतरिक और बाहरी दुनिया के बीच के द्वार हैं। तंत्रिका विज्ञान(न्यूरोसाइंस) ने कहा है, ‘‘न्यूरॉन्स जो एक साथ इक_ा काम करते हैं एक साथ जुड़ते करते हैं।’’ गीता के शब्द भी अपने समय की भाषा का प्रयोग करते हुए ऐसा ही संदेश देते हैं।

हमारे मस्तिष्क में लगभग 100 अरब न्यूरॉन होते हैं। उनमें से कुछ डी.एन.ए. द्वारा शरीर के स्वचालित कार्यों की देखभाल के लिए तार-तार किए जाते हैं और कुछ हमारे जीवन काल के दौरान हमारे द्वारा तार-तार किए जाते हैं। पहले दिन, ड्राइविंग व्हील से पहले, हम सभी को गाड़ी चलाना मुश्किल लगा और फिर धीरे-धीरे इसकी आदत हो गई। यह हार्ड वायरिंग के कारण है जो मस्तिष्क अप्रयुक्त न्यूरॉन्स के साथ ड्राइविंग में शामिल सभी गतिविधियों को समन्वयित करने के लिए करता है।

ऐसा ही सभी कौशल के साथ होता है। साधारण चलने से लेकर खेलकूद तक सर्जन द्वारा जटिल सर्जरी तक। हार्डवायरिंग मस्तिष्क के लिए बहुत अधिक ऊर्जा बचाता है और हमारे जीवन को आसान बनाता है।

एक नया जन्म एक ‘सार्वभौमिक बच्चा’ होता है जो कई चीजों में सक्षम होता है। परिवार, साथियों और समाज द्वारा किए गए वर्चस्व से कई तंत्रिका पैटर्न (न्युरल प्रतिरूप) बनते हैं। ये प्रतिरूप हमें बाहरी दुनिया से एक विशेष प्रकार के आवेगों और संवेदनाओं की तलाश करने की उम्मीद करते हैं और हम उन्हें प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। उदाहरण के लिए, हम सभी अपने बारे में प्रशंसा सुनना पसंद करते हैं क्योंकि हमारे तंत्रिका प्रतिरूप उसी की अपेक्षा करते हैं और उसका आनंद लेते हैं। ये प्रतिरूप उम्मीदों, पूर्वाग्रहों और निर्णयों की नींव हैं।

किए गए प्रयासों के साथ इन प्रतिरूपों का संयोजन, अहंकार के अलावा और कुछ नहीं है और आज की दुनिया में, सफलता और खुशी को हमारे तंत्रिका प्रतिरूप से मेल खाने वाली संवेदनाओं के रूप में परिभाषित किया जाता है। इनके टूट जाने पर व्यक्ति स्वयं में केंद्रित हो जाता है। परिणामस्वरूप आनंद प्रवाहित होता है क्योंकि हम बाहरी संवेदनाओं पर निर्भर नहीं हैं और श्रीकृष्ण इसे आत्मरमन कहते हैं।

गीता जीवन जीने के लिए गीता में दिए गए विभिन्न निर्देशों/उपकरणों का उपयोग करना है, जो इन प्रतिरूपों को तोडऩे के लिए हमें आनंदित और निर्णय से मुक्त बनाता है।


English - Read

Source - Punjabi Kesari

 

< Previous Chapter | Next Chapter >