जैसा कि कहा गया है, ‘‘सभी सड़कें रोम की ओर ले जाती हैं,’’ गीता में दिए गए सभी मार्ग हमें अंतरात्मा की ओर ले जाते हैं। कुछ रास्ते एक-दूसरे के विपरीत प्रतीत होते हैं। हालांकि, यह एक चक्र की तरह है जहां दोनों तरफ की यात्रा हमें उसी मंजिल तक ले जाएगी।

गीता विभिन्न स्तरों पर कार्य करती है। कभी-कभी श्रीकृष्ण अर्जुन के स्तर तक आ जाते हैं तो कभी-कभी वह परमात्मा के रूप में आते हैं। यह प्रारंभिक अवस्था में समझने में कठिनाइयां पैदा करता है क्योंकि ये दोनों स्तर अलग-अलग प्रतीत होते हैं।

पिछली शताब्दी की शुरूआत में, वैज्ञानिकों को प्रकाश को समझने में इसी तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। प्रारंभ में यह सिद्ध हुआ कि प्रकाश एक तरंग है और बाद में यह ज्ञात हुआ कि यह भी एक कण की तरह व्यवहार करता है। दोनों सिद्धांत एक-दूसरे के विरोधी प्रतीत होते हैं लेकिन प्रकाश, जिससे हम इतने परिचित हैं, प्रत्यक्ष अंतर्विरोधों का एक संयोजन है। ऐसा ही जीवन है।

एक बार एक हाथी एक गांव में घुसा और कुछ अंधे लोगों ने उसे पहचानने या समझने का प्रयास किया। उन्होंने हाथी के जिस हिस्से को छुआ, उसके आधार पर उन्होंने कल्पना की कि हाथी कैसा हो सकता है। सूंड को छूने वाले ने कहा कि हाथी एक लंबे और खुरदुरे प्राणी की तरह है। दांत को छूने वाले ने कहा कि यह जानवर चट्टान की तरह सख्त है। एक और जिसने पेट को छुआ, उसने कहा कि यह विशाल और कोमल है।

एक वास्तविकता की अलग-अलग धारणाएं। आज दुनिया में हम जो भी अंतर देखते हैं, उसका कारण है। वास्तव में हाथी इनमें से कोई नहीं है, बल्कि यह सब है भी।

हमारी मन:स्थिति इन व्यक्तियों से भिन्न नहीं है, लोगों, चीजों और संबंधों के साथ वह गूढ़ हाथी है। आंशिक समझ हमें दुख की ओर ले जाती है। गीता अनिवार्य रूप से एक आंशिक समझ से पूर्ण तक की एक यात्रा है। 80-20 के सिद्धांत की तरह, इस समझ में कुछ कदम भी जीवन में आनंद ला सकते हैं।


English - Read

Source - Punjab Kesri