Episodes

23. शरीर नहीं ’आत्मा’ को पहचानो

कृष्ण ने अर्जुन से कहा (2.25) कि आत्मा अदृश्य, अकल्पनीय और अपरिवर्तनीय है और एक बार जब आप इस बात को समझ जाते हैं, तो शरीर के लिए शोक करने की कोई आवश्यकता नहीं रहती।

22.सुख–दुख में संतुलन ही ’परमानंद‘ है।

गीता (2.14) के आरंभ में कृष्ण कहते हैं कि इंद्रियों का बाह्य विषयों से मिलन सुख और दुख का कारण बनता है। वह अर्जुन से उन्हें सहन करने के लिए कहते हैं, क्योंकि वे अनित्य हैं।

21. 'रचनात्मकता' से होता है ’सृजन’

अंतरात्मा को समझने की खोज में दो प्रकार के बुद्धिमान लोगो ने मानवता का मार्गदर्शन किया है। एक सकारात्मक पक्ष को देखता है तो दूसरा नकारात्मक पक्ष को ।

20. मृत्यु हमें नहीं मारती

श्री कृष्ण ने अर्जुन से कहा , "कोई समय, भूत, वर्तमान या भविष्य ऐसा नहीं है, जब आप, मैं और युद्ध के मैदान में मौजूद ये शासक नहीं थे, हैं या रहेंगे (2.12)।"

19. 'रचनात्मकता' की कभी मौत नहीं होती

सत् और असत् पर श्री कृष्ण आगे 'उस' पर चिंतन करने के लिए कहते हैं जो अविनाशी है और सभी में व्याप्त है (2.17)।

18. सत् एवं असत्

कृष्ण कहते हैं कि सत् (वास्तविकता/स्थायित्व) कभी समाप्त नहीं होता और असत् (असत्य/अस्थायी) का कोई अस्तित्व नहीं है और ज्ञानी वह है जो दोनों के बीच अंतर कर सके (2.16)।

17. चार प्रकार के ‘भक्त’

श्री कृष्ण के अनुसार चार प्रकार के भक्त होते हैं। पहला भक्त जीवन में जिन कठिनाइयों और दुखों का सामना कर रहा है, उनसे बाहर आना चाहता है।

16. गुणों पर ‘जीत’ पाना

श्री कृष्ण कहते हैं कि किसी कर्म का कोई कर्ता नहीं होता है। कर्म वास्तव में तीन गुणों के बीच परस्पर प्रभाव का परिणाम है – ‘सत्’ , ‘रज’ और ‘तम’ जो प्रकृति का हिस्सा हैं।

15. ’समानता’ की भावना

समत्व (समभाव / समता) एक सामान्य सूत्र है। भगवान श्री कृष्ण ने गीता में कई बार समत्व-भाव, समत्व-दृष्टि और समत्व-बुद्धि की विशेषताओं पर प्रकाश डाला है । समत्व को समझना आसान है लेकिन आत्मसत् करना मुश्किल है। हमारे भीतर समत्व की मात्रा, आध्यात्मिक यात्रा में हमारी प्रगति का सूचक है।

14. ’सत्व’, ’तमो’ और ’रजो’ गुण

हम में से अधिकांश लोगों का मानना है कि हम अपने सभी कार्यों का कारण आपने भाग्य के स्वामी हैं। गीता में भगवान कृष्ण कहते हैं कि गुणों (लक्षण/चरित्रों) के बीच बातचीत से कर्म बनता है, न कि किसी कर्ता के कारण।

13. इंसान के बस में केवल ’कर्म’ है

यदि एक शब्द संपूर्ण गीता का वर्णन कर सकता है तो वह ‘दृष्टा’ (साक्षी) होगा, जो कई संदर्भों में इस्तेमाल होता है। इसकी समझ महत्वपूर्ण है क्योंकि हम में से अधिकांश लोग सोचते हैं कि सब कुछ हम ही करते हैं और स्थितियों को नियंत्रित करते हैं।

12. सीखिए ’मन’ को नियंत्रण करना

अर्जुन मन की तुलना वायु से करता है और जानना चाहता है कि इसे कैसे नियंत्रित किया जाए, ताकि यह संतुलन बनाए रखे। श्रीकृष्ण कहते हैं कि यह निश्चित रूप से ऐसा करना कठिन है लेकिन इसे वैराग्य के अभ्यास से प्राप्त किया जा सकता है।

11. ’सुख—दुख’ जीवन के दो पहलू

विचारों की भिन्नता/द्वैतवाद को पार करना, गीता में एक और अचूक निर्देश है। श्रीकृष्ण बार-बार अर्जुन को यह अवस्था प्राप्त करने की सलाह देते हैं।

10. दिमाग ’दोधारी’ तलवार जैसा

गीता में कई अचूक उपाय हैं जो कई दरवाजे खोलने और आत्म-साक्षात्कार के मार्ग में आने वाली बाधाओं को दूर करने की क्षमता रखते हैं। ऐसी ही एक अचूक उपाय है, स्वयं को दूसरों में और दूसरों को स्वयं में देखना।

9. 'हमारी दुश्मन’ बंद मुट्ठी

गीता में, भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं कि आप स्वयं अपने मित्र हैं और स्वयं अपने शत्रु हैं।

8. जीवन को दीजिए सही ’ दिशा ’

पतवार से जुड़े एक छोटे–से यंत्र ’ट्रिम टैब’ में हल्का–सा बदलाव बड़े जहाज की दिशा बदल देता है। इसी तरह, गीता का अध्ययन करने के लिए एक हल्का–सा स्पर्श हमारे जीवन में पाठ्यक्रम को नया रूप दे सकता है।

7. तप कर ही सोना कुंदन बनता है।

श्रीमद् भगवद्गीता का जन्म युद्ध के मैदान में हुआ था और वर्तमान महामारी का समय कुरुक्षेत्र युद्ध के समान है। गीता में एक वाक्यांश निमित्तमात्र (सर्वशक्तिमान के हाथों में एक उपकरण) बड़े करीने से इसका सार प्रस्तुत करता है।

6. इरादे को पहचानें

गीता आंतरिक दुनिया में सद्भाव बनाए रखने के बारे में है और कानून बाहरी दुनिया में व्यवस्था बनाए रखने के बारे में है। किसी भी कर्म के दो भाग होते हैं, एक इरादा है और दूसरा उसे पूरा करना।

5. ज्ञान, कर्म और भक्ति योग

गीता अलग-अलग लोगों को उनके दृष्टिकोण के आधार पर अलग दिखाई देती है। गीता में तीन अलग-अलग मार्ग बताए गए हैं। कर्मयोग, सांख्ययोग और भक्तियोग। मन उन्मुख व्यक्ति के लिए कर्मयोग आदर्श है। सांख्ययोग ज्ञान के लिए है और भक्ति हृदय के लिए है।

4. दिमाग का खेल

गीता हमारी इंद्रियों पर जोर देती है, क्योंकि वे हमारे आंतरिक और बाहरी दुनिया के बीच के द्वार हैं। तंत्रिका विज्ञान(न्यूरोसाइंस) ने कहा है, ‘‘न्यूरॉन्स जो एक साथ इक_ा काम करते हैं एक साथ जुड़ते करते हैं।’’ गीता के शब्द भी अपने समय की भाषा का प्रयोग करते हुए ऐसा ही संदेश देते हैं।

3. 'कर्मफल' पर अधिकार नहीं

गीता इस बारे में है कि हम क्या हैं। यह सत्य को जानने के अलावा सत्य होने जैसा है और ऐसा तब होता है जब हम वर्तमान क्षण(समय) में केंद्रित (अंतरिक्ष) होते हैं।

2. मंजिल एक, रस्ते अनेक

जैसा कि कहा गया है, ‘‘सभी सड़कें रोम की ओर ले जाती हैं,’’ गीता में दिए गए सभी मार्ग हमें अंतरात्मा की ओर ले जाते हैं। कुछ रास्ते एक-दूसरे के विपरीत प्रतीत होते हैं। हालांकि, यह एक चक्र की तरह है जहां दोनों तरफ की यात्रा हमें उसी मंजिल तक ले जाएगी।

1. अहंकार

सीदन्ति मम गात्राणि मुखं च परिशुष्यति। वेपथुश्च शरीरे में रोमहर्षश्च जायते।। युद्ध की बात करना आसान होता है। युद्ध करना कठिन है। ऐसा ही अर्जुन के साथ हुआ। ऐसा हम सबके साथ होता है। उसका समाधान हमें श्रीमद्भागवत गीता से मिलता है।

 

Theme by BootstrapMade